Saturday, June 12, 2010

बरसात कुछ लाती है

बरसात कुछ लाती है
अकसर बरसात में वो घड़ी याद आती है
एक मां अपने बेटे के साथ जाल लेकर आती हैं
सुमंद्र के किनारे लहरों में वो जाल फेंके खड़े रहते हैं
गिरती बूंदों से अपनी किस्मत की दुआ करते हैं
इस बरसात में झोली अपनी भर जाएगी
ये बारिश मेरे दुख, बहा ले जाएगी
लहरें भी झूम के मस्त होती है
हर बहाव में कुछ न कुछ भेजती है..
कोई बचता है कोई गीत गाता है
कोई देख कर ही लुत्फ उठाता है ।।
मुझे एक और घड़ी याद आती है
कड़ी- बल्ली ,पत्थर की छत टपकती है
घर की बिल्ली दुबक कर कहीं बैठती है
कमरो में हर वक्त छतरी खुली रहती है
मेरी चप्पल अकेले ही सैर पर निकल जाती है
कोई बचता है कोई गीत गाता है
कोई देख कर ही लुत्फ उठाता है ।।
मुझे एक और घड़ी याद आती है
हाथों मे हाथ डाले कोई चलता है
कोई इधर चलता है कोई उधर चलता है
पायचें उठाए ,जूते लिए बचकर कोई निकलता
फिर भी मोटर गाड़ी छीटे मार कर भाग जाती है
न जाने तब गाली कहां से मुंह में आती है
हर बार बरसात कुछ लाती है
कोई बचता है कोई गीत गाता है
कोई देख कर ही लुत्फ उठाता है ।।

1 comment:

Anonymous said...

Waah! Kya Baat Hai.....