Friday, August 21, 2015

FULL STORY ON INDIA A TRI SERIES - CHENNAI..INDIA WON



South Africa A -Australia A

First match



Tri series



A टीम क्रिकेट, क्रिकेट की एक अलग दुनिया है। यह खिलाड़ियो के लिये एक प्रयोगशाला,जहां उन्हे अपने खेल में अलग अलग प्रयोग करने का खुला मौका मिलता है।हम आपके लिये लेकर आयें है चेन्नई मे शुरू हुई, भारत, साउथ अफ्रीका ऑस्ट्रेलिया टीम ए के बीच होने वाली त्रिकोण श्रंखला का पहला मुकाबला, साउथ अफ्रीका टीम ए बनाम ऑट्रेलिया टीम ए। चेन्नई के एम ए चिदंबरम स्टेडियम में टॉस के लिये साउथ अफ्रीका टीम ए के कप्तान डीन एलगार और ऑस्ट्रेलिया टीम ए के कप्तान उस्मान ख्वाजा मैदान पर पहुंचे । साउथ अफ्रीका टीम ए की ओपनिंग जोड़ी रीज हेनड्रिक्स और कप्तान डीन एलगार क्रीज़ पर थे और ऑस्ट्रेलिया ए के सलामी गेंदबाज़ जेम्स पैटीनसन पहली गेंद डालने के लिये तैयार थे ।जब लगने लगा था कि रीज हेनड्रिक्स और कप्तान डीन एलगार साउथ अफ्रीका ए के लिये रनो कि एक बड़ी इमारत खड़ी करने जा रहे हैं तभी ऑस्ट्रेलिया ए के लेग स्पिनर कैमरून बॉयसी की मिडिल स्टंप पर आने वाली फ्लाइट गेंद पर एलगार अपना विकेट गवा बैठे तब साउथ अफ्रीका का स्कोर था 73 रन एक विकेट पर। जितनी अच्छी शुरूआत साउथ अफ्रीका ए की हुई थी उतनी बुरी हालात में अब वो पहुंच चुकी थी उसने अपने 5 विकेट केवल 141 रनों पर गवा दिये थे और ऑस्ट्रेलिया ए के सभी गेंदबाज़ों ने अपना कमाल दिखाना शुरू कर दिया था। एक वक्त पर साउथ अफ्रीका ए का स्कोर एक विकेट पर 101 रन था वहीं उसकी पूरी टीम 171 रनों पर आउट हो गई,साउथ अफ्रीका ए पूरे 50 ओवर भी नहीं खेल पाई और ऑस्ट्रेलिया ए के गेंदबाज़ी को आगे रेत की टीले की तरह बह गई ।



अब ऑस्ट्रेलिया ए की सलामी जोड़ी उस्मान ख्वाजा और जुई बर्न मैदान पर थे। viljoen के ओवर में लगातार तीन चौके लगाकर उस्मान ख्वाजा ने साउथ अफ्रीका ए के गेंदबाज़ो की लाइन लेंथ को बिगाड़ कर दिया।उस्मान ख्वाजा का आक्रामण खेल जारी रहा 13 ओवरों के बाद साउथ अफ्रीका ने अपने लेग स्पिनर Eddie Leie को गेंद थमाई लेकिन ख्वाजा और बर्न के आगे वो भी लाचार दिखे। कप्तान उस्मान ख्वाजा ने अपने 50 रन ,52 गेंदो में पूरे किये और इस अर्धशतक में 7 चौके शामिल थे , ख्वाजा और बर्न की साझेदारी ने ऑस्ट्रेलिया ए की जीत को आसान बना दिया था। बल्लेबाज़ी में फ्लॉप रही साउथ अफ्रीका ए , गेंदबाज़ी में भी लगातार फेल हो रही थी , 23 ओवर के बाद 130 रन बन चुके थे और ऑस्ट्रेलिया ए का एक भी खिलाड़ी आउट नहीं हुआ था अब देखना यह था कि ऑस्ट्रेलिया ए कितनी जल्दी खेल को खत्म करते हैं। 73 रनों पर कप्तान उस्मान ख्वाजा जब आउट हुए तो ऑस्ट्रेलिया ए को जीत के लिये केवल 30 रन चाहिए थे । जिसे ट्राविस हेड और जुई बर्न ने जल्द ही बना लिये। हेड के इस चौके के साथ ऑस्ट्रेलिया ए ने 19 ओवर रहते ही टार्गेट को पाया लिया और 9 विकेट से साउथ अफ्रीका ए को हरा कर मैच जीत लिया । इस जीत से ऑस्ट्रलिया ए को दो अंक मिले है । अपनी बेहतरीन बल्लेबाज़ी के लिये ऑस्ट्रेलिया ए के कप्तान उस्मान खव्वाजा को मैन ऑफ दी मैच का ऑवार्ड मिला।

Australia A vs India A



Match-2



चेन्नई के एम ए चिदंबरम स्टेडियम में चल रही, इंडिया ए ट्राई सीरीज़ मे दूसरा मैच इंडिया ए बनाम ऑस्ट्रेलिया ए के बीच था ऑस्ट्रेलिया ए की कमान उस्मान ख्वाजा संभाले हुए है और इंडिया ए का नेतृत्व उन्मुक्त चंद कर रहे है। टॉस के लिये दोनो कप्तान मैदान पर थे।टॉस का सिक्का उछला.... ऑस्ट्रेलिया ए ने टॉस जीता।जबरदस्त फॉर्म में चल रही ऑस्ट्रेलिया ए की सलामी जोड़ी उस्मान ख्वाजा और जो बर्न क्रीज़ पर थे और धवल कुलकर्णी इंडिया ए ट्राई सीरीज़ मे दूसरे मैच की पहली गेंद डालने को तैयार थे । कप्तान उन्मुक्त चंद ने आठ ओवर के बाद ही अक्सर पटेल को गेंद थमा दी, लेकिन आज का दिन जो बर्न का था। 16 over का खेल खत्म हो चुका था,इंडिया ए के विकेट-कीपर संजू सैमसन तीन बार कैच छोड़ चुके थे,ख्वाजा ने अपना अर्धशतक पूरा कर लिया था। ऑस्ट्रेलिया टीम ए का स्कोर था 107 रन बिना किसी नुकसान के । ऑस्ट्रेलिया टीम ए की सलामी जोड़ी ने बड़े स्कोर की नींव डाल दी थी।बर्न और उस्मान को रोक पाना इंडिया ए के गेंदबाज़ो के बस की बात नहीं लग रही थी दोनों बल्लेबाज़ 83-83 रनों पर थे और पारी में अब तक 12 चौके और दस छक्के लग चुके थे।ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था 174 रन बिना कोई विकेट गवाए। ख्व्वाजा और बर्न के बीच चल रही पहले शतक बनाने की दौड़ में बर्न ने बाजी मार ली।जो बर्न का बतौर ओपनर यह पहला शतक था और वो रूकने के बिलकुल मूड में नहीं लग रहे थे ।पिछली पांच पारियों मे बेहतरीन प्रदर्शन करते आ रहे उस्मान ख्वाजा जब अपना शतक पूरा करके आउट हुए तो ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था 239 रन पर एक विकेट, अगले ही ओवर में संदीप शर्मा ने ट्राविस हेड का विकेट ले लिया और अब ऑस्ट्रेलिया ए स्कोर था 239 रन पर दो विकेट। लेकिन बर्न पर इसका कोई असर नहीं पड़ा उन्होने अपना आक्रामक खेल जारी रखा। कुलकर्णी की इस गेंद के साथ जो बर्न की बेहतरीन पारी का अंत हुआ उन्होने अपने 154 रन 131 गेंदो पर बनाये जिसमें पांच चौके और 14 छक्के शामिल थे । 43 ओवर का खेल हो चुका था ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर 3 विकेट पर 277 रन । अब देखना था कि आने वाले ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों को इंडिया ए के गेंदबाज़ कैसे संभालते हैं।

जब खेल खत्म हुआ तो ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था 4 विकेट पर 334 रन । संदीप शर्मा को छोड़ कर इंडिया ए के सभी गेंदबाज़ो की जम कर धुनाई हुई।



335 रनों के टार्गेट का पीछा करने के लिये इंडिया ए की ओपनिंग जोड़ी मंयक अग्रवाल और कप्तान उन्मुक्तचंद मैदान पर थे और उनका सामना था ऑस्ट्रेलिया ए के सलामी गेंदबाज़ जेम्स पैटीनसन। जेम्स पैटीनसन ने अपने तीसरे ही ओवर में मंयक अग्रवाल को ऑउट कर के इंडिया ए को 24 रन पर ही पहला झटका दे दिया ।अब कप्तान उंमुक्तचंद का साथ देने मनीष पांडे मैदान पर थे।

मनीष पांडे टीम इंडिया ए के स्कोर में सिर्फ अपना 11 रनों का ही योगदान दे पाये और Abbott को अपना विकेट दे बैठे । इंडिया ए का स्कोर था 2 विकेट पर 52 रन और अब करूण नायर नये बल्लेबाज मैदान पर थे।Adam Zampa, की गेंद पर इस सिक्स के साथ उंमुक्तचंद ने क्रिकेट ए में अपना 11वां अर्धशतक बनाया , लेकिन लेग स्पिनर ज़ामपा ने अपनी चौथी गेंद पर ही उन्मुक्त को बोल्ड कर दिया । इंडिया ए अब मुश्किल में था 90 रनों पर ही उसके चार खिलाड़ी आउट हो चुके थे और ऑस्ट्रेलिया ए के गेंदबाज़ों ने अपना शिकंजा कसना शुरू कर दिया था। Adam Zampa ने जब केदार जाधव को आउट किया तो इंडिया ए की मुकाबले में बने रहने की आखिरी उम्मीद भी खत्म हो गई थी 31 ओवर के बाद इंडिया ए का स्कोर था सात विकेट पर 168 रन, ऑस्ट्रेलिया बड़े अंतर से जीतने वाला है अब यह तय था। इंडिया ए की पूरी टीम 215 रन पर आउट हो गई और ऑस्ट्रेलिया ए ने 119 रनों से मैच जीत लिया । ऑस्ट्रेलिया ए ने अपना ट्राई सीरीज में लगातार दूसरा मुकाबला जीत है , जो बर्न को अपनी शआनदार बल्लेबाजी के लिये मैन ऑफ दी मैच का आर्वाड मिला।




South Africa A vs

India A

Match -3

चेन्नई के एम ए चिदंबरम स्टेडियम में खेली जारी रही इंडिया ए ट्राई सीरीज़ में, तीसरा मुकाबला था इंडिया ए का साउथ अफ्रीका ए के साथ, दोनो टीमें अपना पहला मुकाबला ऑस्ट्रेलिया ए से हार चुकी थी इसलिये यह मैच दोनो के लिये जीतना ज़रूरी था।टॉस के लिये दोनों कप्तान, डीन एलगार और उन्मुक्तचंद मैदान पर थे। साउथ अफ्रीका ए की तरफ से पारी की शुरूआत करने रीज़ हैंड्रिक्स के साथ क्विंटन डी कॉक मैदान पर पहुंच चुके थे। इंडिया ए के गेंदबाज़ धवल कुलकर्णी मैच की पहली गेंद डालने को तैयार थे। साउथ अफ्रीका का पहला विकेट 5 रन के स्कोर पर ही गिर गया था और जब 10 ओवर का मैच खत्म हुआ तो साउथ अफ्रीका ए का स्कोर था 2 विकेट पर 29 रन । रीज़ हैंड्रिक्स जहां रन आउट हुए थे वहीं परवेज रसूल की जगह टीम में शामिल हुए रशि धवन ने de Bruyn को अपना शिकार बनाया था। अब क्रीज पर डी कॉक के साथ थे कप्तान डीन एलगार।इंडिया ए के गेंदबाज़ो ने साउथ अफ्रीका ए के बल्लेबाज़ों को बांध कर रखा था।27 ओवर के बाद साउथ अफ्रीका ए के 4 बल्लेबाज़ आउट हो चुके थे और स्कोर बोर्ड में स्कोर था केवल 94 रन, 48 रनो पर डी कॉक अभी भी क्रीज पर मौजूद थे ।-दो विकेट कीपरों के बीच सौ रनों की साझेदारी को रशि धवन ने तोड़ दिया DJ Vilas जब 50 रन बनाकर आउट हुए तो साउथ अफ्रीका ए का स्कोर था पांच विकेट पर 194 रन । अपने आठ ओवरों में रशि धवन ने 35 रन देकर तीन विकेट ले लिये थे और साउथ अफ्रीका को फिर से मुश्किल में डाल दिया था। 108 रनो पर डीकॉक रशि धवन के चौथे शिकार बने । 47 ओवर के बाद साउथ अफ्रीका का स्कोर था 7 विकेट पर 219 रन ।

साउथ अफ्रीका ए की पूरी टीम 244 रनों पर आउट हो गई थी। इंडिया ए के रशि धवन, 4 विकेट लेकर सबसे सफल गेंदबाज़ रहे ।




साउथ अफ्रीका ए ने 245 रनो का टार्गेट दिया जिसे हासिल करने के लिये इंडिया ए की सलामी जोड़ी मंयक अग्रवाल और उन्मुक्त चंद मैदान पर पहुंच चुकी थी।

मंयक और उन्मुक्त ने एक संभली हुई शुरूआत इंडिया ए को दे दी थी . 10 ओवर का खेल जब खत्म हुआ तो इंडिया ए का स्कोर था 47 रन बिना किसी नुकसान के।

पिछले मैच में नाकाम रहे मंयक अग्रवाल ने 7 चौकों की मदद से लिस्ट ए में अपना चौथा अर्धशतक पूरा किया ,17 ओवर के बाद इंडिया ए का स्कोर था 83 रन बिना किसी नुकसान के। उन्मुक्तचंद ने अपना बेहतरीन फॉर्म जारी रखा और सीरीज में लगातार दूसरा अर्धशतक बनाया, इंडिया ए की जीत अब तय थी ।24 ओवर का खेल हो चुका था,इंडिया ए का स्कोर था 138 रन। साउथ अफ्रीका ए को अभी तक कोई कामयाबी नहीं मिली थी। मंयक अग्रवाल ने 13 चौकों की मदद से लिस्ट ए में अपना चौथा शतक पूरा कर लिया था। उन्मुक्त और मंयक अग्रवाल की पहले विकेट की साझेदारी 200 रनो से ज्यादा की हो चुकी थी।इंडिया ए को अब सिर्फ 40 रन चाहिए थे जीतने के लिये।आखिरकार डीन एलगार ने उन्मुक्तचंद को आउट करके अपनी टीम को एक सफलता दिला ही दी , उन्मुक्त की बेहतरीन पारी का 90 रनों पर अंत हुआ ।130 रनों पर मंयक अंग्रवाल की पारी खत्म हुई और इंडिया ए ने यह मैच 8 विकेट से जीत लिया,मंयक अग्रावाल प्लेयर ऑफ दी मैच रहे और 40 ओवरों से कम में मैच जीत कर इंडिया ए को बोनस अंक भी मिला।




India A vs Australia A



Match -4-



चेन्नई के एम ए चिदंबरम स्टेडियम में चल रही, इंडिया ए ट्राई सीरीज़ में चौथा मुकाबला होने वाला था आस्ट्रेलिया ए का साउथ अफ्रीका ए के साथ लेकिन साउथ अफ्रीका के ज्यादातर खिलाड़ियों की तबीयत खराब होने की वजह से यह मैच कराना पड़ा इंडिया ए और ऑस्ट्रेलिया ए के बीच।साउथ अफ्रीका ए से मुकाबला जीतने के बाद इंडिया ए के हौसले बुलंद थे । टॉस का सिक्का भी उन्मुक्त चंद के पक्ष में गिरा और उन्होने पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया। साउथ अफ्रीका ए के खिलाफ बेहतरीन ओपनिंग साझेदारी निभाने वाली जोडी मंयक और उन्मुक्त जब मैदान पर पहुचे तो सबको उम्मीद थी कि आज भी यह जोड़ी अपने उसी खेल को दोहराएगी। 5 रन पर उन्मुक्तचंद को आउट कर के जेम्स पैटीनसन ने यह बता दिया कि इंडिया ए का मुकाबला साउथ अफ्रीका ए के साथ नहीं ब्लकि ऑस्ट्रेलिया ए के साथ है । मनीष पांडे को रिटार्यड हर्ट होकर वापस जाना पड़ा और उनकी जगह आये करूण नायर, मंयक अग्रवाल का साथ निभाने। मंयक अंग्रवाल ने करूण नायर के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाते हुए लिस्ट ए में अपना 5वां अर्धशतक पूरा किया । 15 ओवर का खेल जब खत्म हुआ तो इंडिया ए का स्कोर था एक विकेट पर 78 रन। एशटन अगार(Ashton Agar..) का पारी का पहला ओवर इंडिया ए को बड़ा भारी पड़ा , पहले उन्होने मंयक को आउट करके करूण नायर के साथ उनकी साझेदारी तोड़ी फिर अगली ही गेंद पर इंडिया ए के इनफॉर्म बैट्समैन केदार जाधव को भी चलता किया । इंडिया ए के तीन खिलाड़ी 98 रनों पर पेविलियन लौट चुके थे । एशटन अगार(Ashton Agar..) ने इंडिया ए की बैटिंग लाइनअप की कमर तोड़ दी । अगार ने अपने 9 ओवरों में केवल 33 रन देकर पांच विकेट ले लिया थे । 35 ओवर के बाद इंडिया ए का स्कोर था 163 रन और उसके 6 खिलाड़ी आउट हो चुके थे । मनीष पांडे ने आक्रामक खेल दिखाते हुए 36 गेंदो पर अपना अर्धशतक पूरा किया लेकिन संधू ने उनकी रफ्तार को रोक दिया। 45 ओवरों का खेल हो चुका था इंडिया ए स्कोर था 8 विकेट पर 231 रन

इंडिया ए की पारी जब खत्म हुई थो स्कोर था 9 विकेट 258 रन, पांच विकेट लेकर एशटन अगार(Ashton Agar..) ऑस्ट्रेलिया ए के सबसे कामयाब गेंदबाज रहे । इंडिया ए की तरफ से मंयक अग्रवाल ने 61 रन और मनीष पांडे ने 50 रनों का योगदान दिया ।




, 259 रनों के टार्गेट का पीछा करने के लिये ऑस्ट्रेलिया ए के कप्तान उस्मान ख्वाजा अपने नये ओपनिंग पार्टनर ट्राविस हेड के साथ मैदान पर थे ।दोनों बल्लेबाज तेजी से रन बटोर रहे थे । लेकिन क्रिकेट का खेल हर गेंद पर बदलता है और रशि धवन ने खव्वाजा को वो गेंद डाल दी।एशटन अगार(Ashton Agar..) की कामयाबी के बाद स्लो पिच पर इंडिया ए को अक्सर पटेल और करन शर्मा से काफी उम्मीद थी और वो उम्मीद पर खरे भी उतरे । 15 ओवर के बाद इंडिया ए का स्कोर था 2 विकेट पर 94 रन। 63 रनों पर Chris Lynn को अक्सर पेटल ने बोल्ड कर के ऑस्ट्रेलिया ए को यह संदेश दे दिया कि इस मैच को वो इतनी आसानी नहीं छोड़ने वाले। 28 ओवर के खेल के बाद ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था 4 विकेट पर 157 रन।-करूण,करन और अक्सर ने ऑस्ट्रेलिया ए के बल्लबाज़ों को बांध कर रखा हुआ था जहां एक वक्त लग रहा था कि ऑस्ट्रेलिया ए यह मैच आसानी से जीत जायेगा वहीं अब मैच फंसता नजर आ रहा था । ऑस्ट्रेलिया ए के 6 खिलाड़ी आउट हो चुके थे और उसे 60 गेंदों पर 51 रनों की ज़रूरत थी। Callum Ferguson 25 रन पर और Adam Zampa 23 रन पर क्रीज पर थे। Callum Ferguson और Adam Zampa की साझेदारी ने ऑस्ट्रेलिया ए के पक्ष मे मैच कर दिया। ऑस्ट्रेलिया ए ने तीन विकेट से मैच जीता और इस जीत के साथ ऑस्ट्रेलिया ए ने सीरीज में लगातार तीसरा मुकाबला अपने नाम किया । एशटन अगार(Ashton Agar..) को उमंदा गेंदबाजी के लिये प्लेयर ऑफ दी मैच का आवार्ड मिला।




Australia A vs South Africa A



Match -5



चेन्नई के एम ए चिदंबरम स्टेडियम में चल रही, इंडिया ए ट्राई सीरीज़ का पांचवा मुकाबला ऑस्ट्रेलिया ए का साउथ अफ्रीका ए के बीच था ।साउथ अफ्रीका ए के लिये जहां हर हाल में यह मैच जीतना ज़रूरी था वहीं ऑस्ट्रेलिया ए अपने तीनो मुकाबले जीत कर फाइनल में अपनी जगह पक्की कर चुकी थी और इस मैच में वो नये कप्तान और कुछ नये खिलाड़ियों के साथ मैदान पर उतरी ।

ऑस्ट्रेलिया ए के कप्तान मैथ्यू वेड (Matthew Wade) ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया लेकिन मैच के पहले ओवर की तीसरी ही गेंद पर हरदुस विलजुन(Hardus Viljoen ) ने अपने इरादे साफ कर दिये, ऑस्ट्रेलिया ए के ट्राविस हेड बिना खाता खोले पेविलियन लौट गये ।
मैथ्यू वेड ने आक्रामक खेल दिखाते हुए 7 ओवरों में ही ऑस्ट्रेलिया ए के स्कोर को 50 के पार कर दिया लेकिन जो बर्न उनका साथ ज्यादा देर तक नहीं दे पाये और केवल 11 रनों पर टीसॉटसोबे(Tsotsobe ) के शिकार बने। 52 रनो के स्कोर पर ऑस्ट्रेलिया ए को दो खिलाड़ी आउट हो चुके थे।मैथ्यू वेड ने एक तरफ से मौर्चा संभालते हुए अपने शतक को मुकम्मल किया।
जब वेड 130 रनों पर आउट हुए तो ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था 202 रन पांच विकेट पर। 52 रनो के स्कोर पर पीटर हैंड्सकोंब (Peter Handscomb ) को टीसॉटसोबे(Tsotsobe ) ने ऑउट कर के अपना तीसरा विकेट लिया और ऑस्ट्रेलिया ए की टीम पूरे 50 ओवर भी नहीं खेल पाई और 272 रनों पर ऑल आउट हो गई।

टॉस जीत के ऑस्ट्रेलिया ए ने साउथ अफ्रीका ए को 273 रनों का टार्गेट दिया। रीज़ा हैंड्रिक्स और कैमरून डेलपोर्ट ने साउथ अफ्रीका ए की तरफ से पारी की शुरूआत की।- कोलटर नील(Coulter-Nile ) ने अपने दूसरे ही ओवर में 2 विकेट लेकर साउथ अफ्रीका ए को बैकफुट पर ला दिया और मैच में अपना दबदबा बना लिया। साउथ अफ्रीका ए का स्कोर 2 विकेट पर 18 रन। जब लगने लगा था कि डीन एलगार और रामेला अपनी टीम को संकट से उभार लगें तभी सीन एब्बॉट(Sean Abbott) ने रामेला को 15 रनो पर आउट कर दिया । 20 ओवर का खेल हो चुका था साउथ अफ्रीका ए का स्कोर था 4 विकेट पर 84 रन। 64 रनों पर जब कप्तान डीन एलगार ऑउट हुए तो साउथ अफ्रीका ए का जल्द पैकअप होना तय हो गया था। साउथ अफ्रीका ए का कोई भी बल्लेबाज़ ऑस्ट्रेलिया ए की गेंदबाजी के सामने फिर टिक नहीं सका।साउथ अफ्रीका ए की पूरी टीम 164 रनो पर आउट हो गई , ऑस्ट्रेलिया ए ने 108 रनो से यह मैच जीत लिया । अपनी बेहतरीन बल्लेबाजी के लिये मैथ्यू वेड को प्लेयर ऑफ दी मैच का ऑवार्ड मिला।


India A vs South Africa A

Match -6



चेन्नई के एम ए चिदंबरम स्टेडियम में चल रही, इंडिया ए ट्राई सीरीज़ का छठा मुकाबला इंडिया ए का साउथ अफ्रीका ए के बीच था । साउथ अफ्रीका ए को फाइनल में अपनी जगह बनाने के लिये यह मुकाबला बोनस प्वाइंट के साथ जीतना था इसलिये ट़ॉस जीतकर उसने पहले गेंदबाज़ी का फैसला किया।-उन्मुक्तचंद ने इस सीरीज़ में अपना तीसरा अर्धशतक बनाया । दोनो ओपनर की नज़रे अब गेंद पर जम गयीं थी और साउथ अफ्रीका ए के कप्तान डेन विलास(Dane Vilas) को पहले गेंदबाज़ी करने के अपने फैसले पर पछतावा होना शुरू हो गया था । केशव महाराज ने उन्मुक्तचंद को आउट कर के साउथ अफ्रीका ए को महत्वपूर्ण ब्रेकथ्रू दिलाया। 64 रनों पर जब उन्मुक्तचंद आउट हुए तो इंडिया ए का स्कोर था एक विकेट पर 106 रन। मंयक अग्रवाल ने मनीष पांडे के साथ इंडिया ए की पारी को आगे बढ़ाया। मंयक ने अपने पहले 50रन 61गेंदों पर बनाये थे और दूसरे 50 रन केवल 35 गेंदों पर , इस ट्राई सीरीज में यह मंयक अग्रवाल का दूसरा शतक था। मंयक का बल्ला रूकने का नाम नहीं ले रहा था और इंडिया ए एक बड़े स्कोर की तरफ बढ़ रही थी। 176 रनों पर मंयक अग्रवाल की विशाल पारी का अंत हुआ जिसमें 20 चौके और 5 छक्के शामिल थे इसी के साथ मनीष पांडे के साथ उनकी 203 रनों की साझेदारी भी टूट गई। मंयक जब आउट हुए तो इंडिया ए का स्कोर था 2 विकेट 309 रन । मनीष पांडे ने तूफानी खेल जारी रखते हुए अपना शतक पूरा किया और इंडिया ए ने 50 ओवरों में तीन विकेट पर 371 रन बनाये ।

372 रनो के टार्गेट को पाने की उम्मीद में साउथ अफ्रीका ए की ओपनिंग जोड़ी क्विंटन डी कॉक और कैमरून डेलपोर्ट मैदान पर थी लेकिन इसबार पहले से कहीं ज्यादा आक्रामक अंदाज़ में।
34 रनो पर रूश कलारिया ने डेलपोर्ट को बोल्ड कर के साउथ अफ्रीका ए की धुआंधार शुरूआत को धीमा ज़रूर किया पर रोक नहीं पाये। । साउथ अफ्रीका ए का स्कोर था एक विकेट पर 53 रन।
86 गेंदों पर 113 रन बनाकर क्विंटन डी कॉक आउट हुए ।डी कॉक ने सीरीज मे दो मैच खेले और दोनो मैचों में शतक बनाये । जिस तरह की शुरूआत डी कॉक ने दी थी उससे यह कहना मुश्किल हो गया था कि मैच किस के पक्ष मे जायेगा। साउथ अफ्रीका ए का स्कोर था 2 विकेट पर 181 रन ।
-इंडिया ए के गेंदबाज़ों ने फिर से मैच में पकड़ बना ली थी। 40 ओवरों का खेल हो चुका था । रीजा हैंड्रिक्स 61 रन पर और ज़ोनडो 28 रन पर क्रीज पर थे । साउथ अफ्रीका ए का स्कोर था 4 विकेट पर 245 रन । -खाया ज़ोनडो ने आखिर के ओवरों में कुछ बड़े शॉट्स लगाकर मैच मे रोमांच ज़रूर लाया पर जीत के लिये यह काफी न था । 86 रनों पर ज़ोनडो अक्सर पटेल के शिकार बने । साउथ अफ्रीका का स्कोर था 6 विकेट पर 333 रन ।इंडिया ए ने साउथ अफ्रीका से 34 रनो से मैच जीत लिया और इस जीत के साथ टाई सीरीज के फाइनल में प्रवेश किया । मंयक अग्रवाल को अपने बेहतरीन 176 रन बनाने के लिये प्लेयर ऑफ दी मैच का ऑवार्ड मिला।




Australia A vs India A

Final

चेन्नई के एम ए चिदंबरम स्टेडियम में चल रही, इंडिया ए ट्राई सीरीज़ का फाइनल इंडिया ए का ऑस्ट्रेलिया ए के बीच था।उस्मान खव्वाजा ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया।

ऑस्ट्रेलिया ए की कामयाब ओपनिंग जोड़ी उस्मान खव्वाजा और जो बर्न मैदान पर थे और इंडिया ए के संदीप शर्मा ट्राई सीरीज फाइनल की पहली गेंद डालने को तैयार थे ।जो और उस्मान ने ऑस्ट्रेलिया ए को एक अच्छी शुरूआत दे दी थी लेकिन गुरकीरत सिंह ने अपने दूसरे ही ओवर में जो बर्न को आउट कर के इस साझेदारी को तोड़ दिया । 41 रनों पर जब जो बर्न आउट हुए तो ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था एक विकेट पर 82 रन। उस्मान ख्वाजा ने अपना अर्धशतक पूरा किया लेकिन दूसरी छोर से विकेट लगातार गिर रहे थे । 76 रनों पर करूण शर्मा ने उस्मान ख्वाजा को आउट कर के अपना दूसरा विकेट लिया और ऑस्ट्रेलिया ए का बड़े स्कोर खड़ा करने के सपने पर पानी फेर दिया । खव्वाजा जब आउट हुए तो ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था 4 विकेट पर 159 रन।

मैथ्यूज वेड को आउट कर के करण शर्मा ने ऑस्ट्रेलिया ए की बची हुई उम्मीद को भी खत्म कर दिया। मैथ्यूज वेड करण शर्मा के तीसरे शिकार बने । ऑस्ट्रेलिया ए का स्कोर था 5 विकेट पर 165 रन। इंडिया ए कि तिगड़ी करण शर्मा, करूण नायर और अक्सर पटेल ने ऑस्ट्रेलिया ए के बल्लेबाज़ो को पूरे मैच मे बांध कर रखा । ऑस्ट्रेलिया ए ने 50 ओवरों मे 8 विकेट पर 226 रन बनाये।

227 रनो के टार्गेट को पाने के लिये इंडिया ए के इनफॉर्म ओपनर्स, मंयक अग्रवाल और उन्मुकतचंद क्रीज पर पहुंच चुके थे।जब लगने लगा था कि मंयक और उन्मुक्त की जोड़ी आसानी से इंडिया ए को जीत दिला देगे तभी मंयक अग्रावाल से एक गलती हो गई । 32 रनों पर जब मंयक आउट हुए तो इंडिया ए का स्कोर था 1 विकेट पर 59 रन।बिना खाता खोले जब करूण नायर नाथन कॉलटर नील(Nathan Coulter-Nile) का शिकार हुए तो इंडिया ए का स्कोर था 3 विकेट पर 65 रन, मनीष पांडे और केदार जाधव पर अब बड़ी जिम्मेदारी थी। साउथ अफ्रीका ए के खिलाफ शतक बनाने वाले मनीष पांडे भी ज्यादा देर तक टिक नहीं पाये और एशटन अगार का शिकार हुए, इंडिया ए अब मुश्किल में थी उसके टॉप फोर बैट्समेन केवल 84 रनों पर पेविलियन लौट चुके थे । मुश्किल वक्त में गुरकीरत सिंह का अर्धशतक इंडिया ए के लिये उम्मीद की राह बनकर आया ,संजू सैमसन के साथ मिलकर वो इंडिया ए का स्कोर लगातार आगे बढ़ा रहे थे । इंडिया ए के 6 खिलाड़ी आउट हो चुके थे और वो लक्ष्य से 45 रन दूर थे ।गुरकीरत सिंह ने ट्राई सीरीज का फाइनल इंडिया ए नाम कर दिया । इंडिया ए ने ऑस्ट्रेलिया ए को 4 विकेट से हरा दिया । अपने हरफनमौला खेल के लिये गुरकीरत सिंह को प्लेयर ऑफ दी मैच का आवार्ड मिला।
























No comments: